Search This Blog

Wednesday, 11 January 2017

Imetehaan..............

                          
                                    इम्तेहान 

 बस  खुदा  अब  ना  ले  मेरे  सब्र  का  इम्तेहान ,
                     अब  तो  पूरा  करदे  मेरे  दिल  का  इक  अरमान ,
बस  उनसे  हो  जाये  हमारी  इक  मुलाकात ,
                     फिर  शायद  बच  सकती  है  ये  मेरी  जान ,
सात  साल  लगते  है ,अब  तो  सात  जन्मों  से ,
                   भूल  से  गए  हैं  बाकि  सारा  ही  जहान ,
याद  है  बस  हमें  मोहब्बत  उनकी ,
                  उन  पर  हमारी  ये  ज़िन्दगी  कुर्बान ,
अब  तो  खुद  में  भी  अक्स  दिखता   है  उनका ,
                 कहीं  भूल  ना  जाऊं  मैं  अपनी  ही  पहचान ,
 बस  खुदा  अब  ना  ले  मेरे  सब्र  का  इम्तेहान ,
                     अब  तो  पूरा  करदे  मेरे  दिल  का  इक  अरमान। ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,मीनू  तरगोत्रा

No comments:

Post a Comment